जान दे दूंगा, अखिलेश को वोट नहीं दिलवाऊंगा, सपा ने मुझे धमकाया, बोले मौलाना

सीएम अखिलेश यादव व उलेमा काउंसिल के महासचिव हाजी सलीश

कानपुर। मुस्लिम मतदाताओं पर डोरे डालने के लिए प्रदेश की राजनीतिक पार्टिया फतवों का सहारा ले रही हैं, तो कानपुर में समाजवादी पार्टी के नेता पर पार्टी प्रत्याशी को समर्थन ना करने वाले मौलवी को धमकाने का आरोप लगा है। मौलाना की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच कर रही है।

प्रदेश में अल्पसंख्यक मतों को अपने पाले में करने के लिए सपा-कांग्रेस गठबंधन और बसपा अपनी-अपनी तरह से दम लगा रहे हैं। बुखारी के बसपा के पक्ष में मतदान के फतवे के बाद समाजवादी पार्टी नेताओं में खलबली मच गई है।

आरोप है कि समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष नसीरुद्दीन ने आर्य नगर विधानसभा से सपा प्रत्याशी अमिताभ वाजपेयी के पक्ष में माहौल बनाने के लिए उलेमा काउंसिल के महासचिव पर दबाव डाला। आरोपी है कि मना करने पर उलेमा काउंसिल के महासचिव हाजी सलीश को गाली-गलौज करते हुए धमकी दी।




उलेमा काउंसिल के महासचिव हाजी सलीश ने कहा कि बदकिस्मती से मैं आर्य नगर विधानसभा का रहने वाला हूं। आर्यनगर विधानसभा से मुख्यमंत्री के बहुत करीबी अमिताभ वाजपेयी सपा से उम्मीदवार की हैसियत से आए हैं। मै इस विधानसभा में रहता हूं, तो मुझसे राफ्ता कायम करने की कोशिश की। मुझसे फोन पर कहा मैं आप से मिलना चाहता हूं। मैंने उनसे मिलने से मना कर दिया, इसके बाद मेरे पुराने मित्र जो दो बार नगर के जिलाध्यक्ष रहे नाशिरुद्दीन ने मुझसे मिलने का दबाव बनाया।  मैंने उनसे भी मिलने को मना कर दिया।

उन्होंने बताया कि जब भीतर गांव में मुसलमानों की हत्या हुई थी, तो मैंने उनसे निवेदन किया था कि उन परिवारों को मुख्यमंत्री रहत कोष से आर्थिक मदद दिलाई जाए, पर मेरी बातो को नजरंदाज कर दिया गया था।

उन्होंने कहा कि पूर्व जिलाध्यक्ष नाशिरुद्दीन ने मुझे 8 फरवरी को सुबह फोन किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री आप की रिपोर्ट मांग रहे हैं। मैंने कहा कि मैं तो किसी जलसे व चुनाव प्रचार में भी नही गया हूं, तो वह मेरी रिपोर्ट क्यों मांग रहे हैं। क्या मुझे मुख्यमंत्री फांसी में चढ़ा देगे। उन्होंने बताया कि बेकनगंज में मैंने इसकी शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने कहा कि यह रिपोर्ट मैं चुनाव आयोग, डीएम ,एसएसपी को फैक्स कर दी है।

उन्होंने कहा कि मैं पूरे प्रदेश में समाजवादी पार्टी का विरोध करूंगा, चाहे मुख्यमंत्री फांसी में चढ़ा सकते हैं, तो चढ़ा दें। देश के लिए मै अपनी जान कुर्बान कर दूंगा।

उन्होंने कहा कि इस सरकार में मुजफ्फरनगर से लेकर 6 छह सौ दंगे हो चुके हैं। इस समाजवादी सरकार ने क्या किया, जबतक मुलायम सिंह थे, मैंने सपा का समर्थन किया। वे पूरी तरह से सेक्युलर थे, जब एक बाप अपने बेटे को कह रहा है वह सांप्रदायिक है और मुस्लिम विरोधी है, तो मै उनका समर्थन कैसे करूं।




Related posts

Leave a Comment